... helping you be all that God made you to be, because He plans on shining His light into this world through you.

Berni - ceo, Christianityworks

मुसीबत का एक उद्देश्य है

We're glad you like it!

Enjoying the content? You can save this to your favorites by logging in to your account.

Register or Login

Add to Favourites

अय्यूब 23:10,11 परन्तु वह जानता है, कि मैं कैसी चाल चला हूँ; और जब वह मुझे ता लेगा तब मैं सोने के समान निकलूंगा।11 मेरे पैर उसके मार्गों में स्थिर रहे; और मैं उसी का मार्ग बिना मुड़े थामे रहा।

Listen to the radio broadcast of

मुसीबत का एक उद्देश्य है


Download audio file

जब हम मुसीबत के समय से गुज़र रहे होते हैं, जैसा कि हम सभी कें साथ समय-समय पर होता हैं, तो हमारे दिमाग में यह विचार आता है: कि मेरे साथ ऐसा क्यों हो रहा है? आखिर क्यों ?

मैं हूँ क्रिस्टोफर सिंह और आज के ताज़ा कार्यक्रम में फिर से आपका स्वागत है।

दुख सही रूप से मानवीय स्थिति का हिस्सा है। आज एक भी व्यक्ति नहीं है जिसे कष्ट न हुआ हो। पैदा होने के दर्द और बेचैनी से लेकर, बड़े होने की तमाम मुश्किलों और धक्कों से, लेकर उन कठिन किशोरावस्था के वर्षों से … ठीक वयस्कता तक

वास्तव में मुझे आश्चर्य होगा अगर अभी, जैसा कि मैं दुख की इस तस्वीर को चित्रित करता हूं, यदि आप उन मुश्किलों में से एक के बारे में, उन परेशानियों में से एक, आपके जीवन में उन दर्दनाक अवधियों में से एक के बारे मे नहीं सोच रहे थे ।

परमेश्वर क्यों? मैं ही क्यों? अभी क्यों?

यदि आपने कभी पुराने नियम में अय्यूब की पुस्तक को पढ़ा है, तो आप जानेंगे कि यह एक व्यक्ति की पीड़ा के बारे में है। अय्यूब एक धर्मी व्यक्ति था। उसने जो कुछ किया, उसमें उसने परमेश्वर का आदर किया। और फिर भी परमेश्वर ने उसे बहुत कष्ट सहने दिया। अध्याय दर अध्याय, वह अपने दोस्तों से पूछ रहा है, वह परमेश्वर से पूछ रहा है… क्यों?! लेकिन एक बिंदु पर, वह अपने लिए उस प्रश्न का उत्तर देना समाप्त कर देता है:

अय्यूब 23:10,11 परन्तु परमेश्वर मुझे जानता है। वह मेरी परीक्षा ले रहा है और देखेगा कि मैं सोने के समान पवित्र हूँ। मैंने हमेशा वैसे ही जिया है जैसे परमेश्वर चाहता है। मैंने उसका पीछा करना कभी नहीं छोड़ा।

उसे पता था कि भले ही परमेश्वर उसे जानता था, भले ही अय्यूब ने अपना जीवन वैसे ही जिया जैसे परमेश्वर चाहता था, भले ही उसने परमेश्वर का अनुसरण करना कभी बंद नहीं किया … पर प्रभु उसकी परीक्षा ले रहा था।

जब हम कठिन समय से यात्रा कर रहे होते हैं, तो परमेश्वर हमारे विश्वास की परीक्षा लेता है। वह इस बात की परीक्षा ले रहा है कि सब से ऊपर उसे सम्मानित करने की हमारी इच्छा वास्तव में कितनी वास्तविक है।

यह उसका ताज़ा वचन है। आज .आपके लिए..।


We use cookies to improve your browsing experience, analyse site traffic & personalise content, but we do not track you when you leave this site. To find out how we utilise & protect your data, check out our "Privacy Policy".

Privacy Policy

Help see God’s Word actively working in millions more lives!

Help see countless more lives touched and transformed by the living Word of God – month after month – by making your gift monthly!